7+ Best Rahim Das Ke Dohe in Hindi | रहीम दास के दोहे

Rahim Das, जिन्हें अब्दुल रहीम खान-ए-खाना के नाम से भी जाना जाता है, मुगल बादशाह अकबर के नौ रत्नों में से एक थे।

अकबर के दरबार में मंत्री होने के अलावा, वह सबसे प्रसिद्ध और प्रसिद्ध कवि, प्रशासक, राजनयिक, परोपकारी, ज्योतिषी और विद्वान भी थे। निचे हम Rahim Das Ke Dohe प्रदान किये हे पढ़े।

कौन हैं रहीम दास? | Who is Rahim Das?

Rahim Das का जन्म 17 दिसंबर 1556 को लाहौर में हुआ था जो अब पाकिस्तान में स्थित है। उनके पिता का नाम भरम खान था, जो अकबर के गुरु थे।

भ्राम खान अकबर को अपने बच्चे की तरह पढ़ाता और प्यार करता है। रहीम दास की माता का नाम सुल्ताना बेगम है, जो एक कवयित्री भी थीं।

यह भी कहा जाता है कि रहीम ने कविता की कला अपनी मां की सुल्ताना बेगम से प्राप्त की थी। यह भी कहा जाता था कि रहीम नाम अकबर ने दिया था।

रहीम दास के दोहे | Rahim Das Ke Dohe in Hindi?

  1. Rahiman dhaaga prem ka, mat todo chatakaay.
    Toote se phir na jude, jude gaanth pari jaay.

अर्थ – Arthaat raheem daas jee kahate hain ki hamen prem ke bandhan ko kabhee todana nahin chaahie kyonki yah yadi ek baar toot jaata hai to phir dubaara nahin judata aur yadi judata bhee hai to gaanth pad jaatee hai.

  1. Rahiman dekhi baden ko, laghu na deejie daari.
    Jahaan kaam aave suee, kaha kare taravaari.

अर्थ – raheem kahate hain ki badee vastu ko dekh kar chhotee vastu ko phenk nahin dena chaahie. jahaan chhotee see suee kaam aatee hai, vahaan talavaar bechaaree kya kar sakatee hai?

  1. Je sulage te bujhi gaye bujhe to sulage naahi.
    Rahiman daahe prem ke bujhi bujhi ke sulagaahi.

अर्थ – agni yadi ek baar boojh jaatee hai, to ise punah sulaga paana asambhav ho jaata hai. lekin prem kee agni badee vichitr hotee hai kyonki yadi prem kee agni ek baar boojh bhee jaatee hai to vah punah sulag sakatee hai. bhakt aisee hee prem kee agni mein jalate rahate hain.

  1. Jo baden ko laghu kahen, nahin raheem ghat jaahin.
    Giradhar muraleedhar kahen, kuchh dukh maanat naahin.

अर्थ – arthaat raheem kahate hain ki bade ko chhota kahane se bade ka badappan nahin ghatata, kyonki krshn ko muraleedhar kahane se unakee mahima kam nahin hotee.

  1. Bigaree baat bane nahin, laakh karo keen koy.
    Rahiman phaate doodh ko, mathe na maakhan hoy.

अर्थ – manushy ko doosaron ke saath sadaiv uchit vyavahaar karana chaahie kyonki yadi ek baar koee baat bigad jaatee hai to laakh prayaas karane ke baad bhee bigadee huee baat nahin banatee hai theek usee prakaar jaise kharaab doodh ko mathane se usamen se makkhan nahin nikaala ja sakata hai.

  1. Roothe sujan manaie, jo roothe sau baar.
    Rahiman phiri phiri poie, toote mukta haar.

अर्थ – yadi aapaka priy sau baar bhee roothe, to bhee roothe hue priy ko manaana chaahie,kyonki yadi motiyon kee maala toot jae to un motiyon ko baar baar dhaage mein piro lena chaahie.

  1. Ve raheem nar dhany hain, par upakaaree ang.
    Baantan vaare ko lage, jyon mehandee ko rang.

अर्थ – raheem daas jee kahate hain kee dhany hain ve log, jinaka jeevan sada paropakaaree ke lie beetata hai, jis tarah phool bechane vaale ke haathon mein phool kee khushaboo rah jaatee hai. theek usee prakaar paropakaariyon ka jeevan bhee khushaboo se mahakata hai.

रहीम दास के बारे में संक्षिप्त जानकारी | Short Information about Rahim Das in Hindi

रहीम दास का जन्म 1556 में लाहौर में हुआ था। रहीम दास का पूरा नाम अब्दुर्रहीम खान-ए-खाना था। रहीम दास नौ महत्वपूर्ण मंत्रियों में से एक थे जिन्हें मुगल सम्राट अकबर के दरबार में नवरत्नों के रूप में भी जाना जाता था।

वह बैरम खान और सलीमा सुल्ताना बेगम के पुत्र थे। रहीम के पिता बैरम खान अकबर के गुरु थे। रहीम दास एक कुशल सेनापति, राजनयिक, कवि और विद्वान थे। उन्हें अकबर ने अपने दामाद के रूप में पाला था।

सोलह साल की उम्र में उन्होंने महबानो बेगम से शादी कर ली। रहीम को अरबी, फारसी, संस्कृत और हिंदी का अच्छा ज्ञान था। उन्होंने अपनी रचनाओं में अवधी और ब्रजभाषा का प्रयोग किया है।

रहीम को अकबर ने मीर-अर्ज की उपाधि से सम्मानित किया था। 1583 में, उन्हें राजकुमारों सलीम का शिक्षक नियुक्त किया गया। रहीम दास जी मुसलमान होते हुए भी भगवान कृष्ण के भक्त थे।

रहीम दोहवाली, बड़वई और मदनशक इनकी प्रमुख कृतियाँ हैं। 70 वर्ष की आयु में 1626 ई. में रहीम की मृत्यु हो गई। उनका मकबरा निजामुद्दीन पूर्व में मथुरा रोड पर स्थित है।

Surdas biography in Hindi
Kabirdas biography and jivani
Vinoba Bhave Biography and Early life

Note – इसी लेख में हम 7 अच्छे रहीम दस के दोहे के बारेमे बताया हे। इसको पढ़े अगर अच्छा लगा तो आपके दोस्त के साथ शेयर करे। अगर कुछ सबाल हे तो हमको कमेंट करके जरूर पूछे।

Rajesh Pahan

Hi, Welcome to Odisha Shayari, I am Rajesh Pahan, the author of this website. Thanks For Visiting our Website. I hope you would have liked our post.

Leave a comment