100+ Mirza Ghalib Shayari in Hindi – मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

पढ़िए Mirza Ghalib Shayari, मिर्ज़ा ग़ालिब की यह खास पोस्ट जो आपके दिल को छू जाएगी। मुझे आशा है कि आपको यह पोसर्स पसंद आएंगे।

मिर्जा असद-उल्लाह बेग खान “गालिब” का जन्म 27 दिसंबर 1797 को आगरा में हुआ था। उनके पिता का बचपन में ही देहांत हो गया था। उन्हें बचपन से ही कविता का शौक था। उन्होंने 11 साल की उम्र से ही कविताएं लिखना शुरू कर दिया था।

13 साल की उम्र में मिर्जा गालिब की शादी नवाब इलाही बख्श की बेटी उमराव बेगम से हुई थी। १५ फरवरी १८६९ को मिर्जा गालिब का निधन हो गया। वह एक ऐसे महान कवि थे, जिनका हर शब्द जीवन के सार का वर्णन करता था।

Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza Ghalib Shayari in Hindi

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा।
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं।।

Is saadagee pe kaun na mar jae ai khuda,
Ladate hain aur haath mein talavaar bhee nahin

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब।
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते।।

Haathon kee lakeeron pe mat ja ai gaalib,
Naseeb unake bhee hote hain jinake haath nahin hote.

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब।
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी।।

Main naadaan tha jo vafa ko talaash karata raha gaalib,
Yah na socha ke ek din apanee saans bhee bevapha ho jaegee.

Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines

Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines
Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines

चाँदनी रात के खामोश सितारों की कसम,
दिल में अब तेरे सिवा कोई भी आबाद नहीं।

Chaandni Raat Ke Khamosh Sitaron Ki Kasam,
Dil Mein Ab Tere Siwa Koyi Bhi Aabaad Nahi.

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।

Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya,
Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya.

ये न थी हमारी किस्मत कि विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता।

Ye Na Thi Humari Kismat Ki Visaal-e-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rehte, Yehi Intezaar Hota.

Read alsoDiwali wishes in Hindi

Mirza ghalib shayari in hindi 4 lines

Mirza ghalib shayari in hindi 4 lines
Mirza ghalib shayari in hindi 4 lines

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है,
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।
इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’।
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।।

Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya Hain?
Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai.
Ishq Par Jor Nahi Hain Ye Aatish “Galib”,
Ki Lagaaye Naa Lage Bujhaye Na Bujhe.

फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल,
दिल-ऐ-ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया।
कोई वीरानी सी वीरानी है,
दश्त को देख के घर याद आया।।

Phir tere kooche ko jaata hai khyaal,
Dil-ai-gam gustaakh magar yaad aaya
Koee veeraanee see veeraanee hai,
Dasht ko dekh ke ghar yaad aaya.

Mirza ghalib shayari in hindi rekhta

हुआ जब गम से यूँ बेहिश तो गम क्या सर के कटने का,
ना होता गर जुदा तन से तो जहानु पर धरा होता।

Hua jab gam se yoon behish to gam kya sar ke katane ka,
Na hota gar juda tan se to jahaanu par dhara hota.

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ,
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ।

Dard Minnat Kash-E-Dawa N Hua,
Main N Achchha Hua Na Bura Hua.

ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,
आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में।

Ta Fir Na Intezaar Mein Neend Aaye Umr Bhar,
Aane Ka Ahed Kar Gaye Aaye Jo Khwaab Mein.

Mirza ghalib shayari in hindi on love

Mirza ghalib shayari in hindi on love
Mirza ghalib shayari in hindi on love

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।

Hazaaron khvaahishen aisee ki har khvaahish pe dam nikale.
Bahut nikale mere aramaan lekin phir bhee kam nikale..

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब,
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते।

Hatho Ki Lakiron Pe Mat Ja E “Galib”,
Nasib Unake Bhi Hote Hai, Jinake Hath Nahi Hote.

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब,
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी।

Main naadaan tha jo vafa ko talaash karata raha gaalibm,
Yah na socha ke ek din apanee saans bhee bevapha ho jaegee.

Mirza ghalib shayari in hindi 2 lines on love

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब,
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है।

Be-vajah nahin rota ishq mein koee gaalib,
Jise khud se badh kar chaaho vo roolaata zaroor hai.

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम,
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले।

Khuda ke vaaste parda na rukhsaar se utha zaalim,
Kaheen aisa na ho jahaan bhee vahee kaaphir sanam nikale.

Heart touching mirza ghalib shayari in hindi

न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा।
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंदख़ू क्या है।।

N Shole Me Ye Larishma N Barq Me Ye Adaa,
Koi Batao Ki Wo Shokhe-Tandukhu Kya Hain.

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता।

Kuchh to tanhaee kee raaton mein sahaara hota,
Tum na hote na sahee zikr tumhaara hota.

ग़ालिब बुरा न मान जो वैज बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है के सब अच्छा कहे जिसे।

Gaalib bura na maan jo vaij bura kahe,
Aisa bhee koee hai ke sab achchha kahe jise.

Asha karata hoon aap sabhee gaalib ke deevaane hai, hamare doston ko Mirza Ghalib Shayari in Hindi post behad hee achha laga hoga aur gaalib kee shaayariyon padhkar app sabhi ne bharapoor maja uthaaya hoga. Doston krpaya is post ko jayada se jada share kare taaki aap ke sabhee dost mirza gaalib shaayaree ka lupht utha sake.

पढ़ने के लिए धन्यवाद

यह भी पढ़ें

Condolence Message in Hindi
Best Quotes on Trust in Hindi
Family Quotes in Hindi

Hii, Welcome to Odisha Shayari, I am Rajesh Pahan a Hindi Blogger From the Previous 3 years.

Leave a Comment