Essay on Rising Oil Prices in Hindi | तेल की बढ़ती कीमतों पर निबंध

नमस्कार दोस्तों क्या आप Rising Oil Prices के बारेमे जानना चाहते हे। अगर हा तो इस Essay on Rising Oil Prices in Hindi लेख में पूरा जानकारी प्रदान किया है।

भारत में तेल की कीमतों में बढ़ोतरी आजकल अखबारों और समाचार चैनलों की प्रमुख सुर्खियों में है। तेल की कीमत में यह वृद्धि 2021 की शुरुआत से जारी है और रुकने या कम होने के आसा नहीं हैं।

तेल की बढ़ती कीमतों पर निबंध | Essay on Rising Oil Prices in Hindi

तेल की बढ़ती कीमत वर्ष 2021 की शुरुआत से ही भारत के लोगों को परेशान कर रही है। ऐसे कई लोग हैं जो तेल की इतनी ऊंची कीमत का सामना नहीं कर सकते और इसलिए यात्रा के लिए वाहनों का उपयोग कम कर दिया है।

तेल की कीमतों में यह बढ़ोतरी यहीं नहीं रुकती बल्कि भविष्य में इसके और बढ़ने की संभावना है। हम देश की अर्थव्यवस्था पर इस वृद्धि के प्रमुख कारणों और प्रभावों पर चर्चा करेंगे।

कच्चा तेल एक गैर-नवीकरणीय ऊर्जा संसाधन है और इसे पृथ्वी के अंदर गहरे जीवाश्म ईंधन से निकाला जाता है। भारत में विभिन्न गतिविधियों को करने के लिए कच्चा तेल एक बहुत ही महत्वपूर्ण ऊर्जा स्रोत है।

इस तेल की अनुपस्थिति का देश के औद्योगिक और परिवहन क्षेत्र पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा। देश में आवश्यक कच्चे तेल का अधिकतम प्रतिशत यानी 70% तेल अन्य तेल उत्पादक देशों से आयात किया जा रहा है।

कीमतों में इतनी बढ़ोतरी के साथ देश में तेल की इस मांग को पूरा करना वाकई एक चुनौतीपूर्ण काम है। यह देश के लोगों और अर्थव्यवस्था को गंभीर समस्या में डाल सकता है।

दुनिया में कई बार तेल की कीमत में उतार-चढ़ाव आया है। इराक, ईरान, कुवैत, सऊदी अरब, वेनेजुएला जैसे देशों ने वर्ष 1960 में पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन के रूप में एक संगठन का गठन किया है।

इस संगठन ने एक दशक तक अपने गठन के बाद तेल की वैश्विक कीमत को नियंत्रित किया। दुनिया में युद्ध या मंदी के समय में कीमतें कई गुना बढ़ चुकी हैं।

तेल की मानक कीमत तय करने की प्रणाली वर्ष 1987 में तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव में बदल गई थी। इसके अलावा, तेल की कीमत में उच्च उतार-चढ़ाव वर्ष 1996 से देखा गया है।

तेल का उत्पादन अधिक होने पर भी तेल की कीमत कम नहीं हुई। कीमतों में कमी 2003 में इराक युद्ध के दौरान देखी गई थी।

इसके बाद फिर 2004 से कीमतों में बढ़ोतरी हुई और तेल की कीमतों में बढ़ोतरी का यह सिलसिला आज भी जारी है। साल 2020 के दौरान तेल की मांग और इसकी कीमत में जबरदस्त कमी आई थी। यह दुनिया के सभी देशों में लॉकडाउन और रूस-सऊदी अरब तेल मूल्य युद्ध के कारण था।

Note – हम उम्मीद करते हे आपको ये Essay on Rising Oil Prices in Hindi लेख अच्छा लगा होगा। अगर अच्छा लगा तो आपके दोस्त और परिवार के साथ जरूर शेयर करे। और कुछ सबाल है तो कमेंट में जरूर पूछे। धन्यवाद

नया साल पर निबंध
प्लास्टिक प्रदूषण पर निबंध
शब-ए-मेराज त्यौहार पर निबंध

Hii, Welcome to Odisha Shayari, I am Rajesh Pahan a Hindi Blogger From the Previous 3 years.

Leave a Comment