Essay on Independence day in Hindi – स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

भारत हर साल 15 अगस्त को अपना Independence day मनाता है। स्वतंत्रता दिवस हमें उन सभी बलिदानों की याद दिलाता है जो हमारे स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने के लिए किए गए थे।

15 अगस्त 1947 को, भारत को ब्रिटिश उपनिवेशवाद से स्वतंत्र घोषित किया गया और यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बन गया। स्वतंत्रता दिवस पर इस निबंध में, छात्रों को भारत के Independence day के सभी महत्वपूर्ण विवरण मिलेंगे।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Essay on Independence day in Hindi)

परिचय(Introduction)

भारतीय इतिहास में सबसे यादगार दिनों में से एक 15 अगस्त है। यह वह दिन है जिस दिन भारतीय उपमहाद्वीप को लंबे संघर्ष के बाद आजादी मिली थी।

भारत में केवल तीन राष्ट्रीय त्यौहार हैं जिन्हें पूरे देश द्वारा एक के रूप में मनाया जाता है। एक Independence day (15 अगस्त) और अन्य दो गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) और गांधी जयंती (2 अक्टूबर) हैं।

आजादी के बाद भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बन गया। अंग्रेजों से आजादी पाने के लिए हमने बहुत संघर्ष किया। स्वतंत्रता दिवस पर इस निबंध में हम स्वतंत्रता दिवस के इतिहास और महत्व पर चर्चा करने जा रहे हैं।

स्वतंत्रता दिवस का इतिहास (history of independence day)

अंग्रेजों ने भारत में लगभग 200 वर्षों तक शासन किया है। ब्रिटिश शासन के तहत, लोगों का जीवन दयनीय था। भारतीयों के साथ गुलाम जैसा व्यवहार किया जाता था और उन्हें उनसे कुछ भी कहने का कोई अधिकार नहीं था।

भारतीय शासक ब्रिटिश अधिकारियों के हाथों की कठपुतली मात्र थे। ब्रिटिश शिविरों में भारतीय सैनिकों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता था, और किसान भूख से मर रहे थे क्योंकि वे फसल नहीं उगा सकते थे और उन्हें भारी भूमि कर देना पड़ता था।

हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत की आजादी के लिए संघर्ष किया। महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, सरदार वल्लभभाई पटेल, जवाहरलाल नेहरू, रानी लक्ष्मी बाई, मंगल पांडे, दादा भाई नौरोजी जैसे प्रसिद्ध नेताओं ने अंग्रेजों के खिलाफ निडर होकर लड़ाई लड़ी।

उनमें से कई ने भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने के लिए अपने प्राणों की आहुति भी दे दी। उनके योगदान और प्रयास को भारत के स्वतंत्रता इतिहास में याद किया जाता है।

हम स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते हैं? (Why do we celebrate Independence Day?)

इस पल को फिर से जीने और स्वतंत्रता और स्वतंत्रता की भावना का आनंद लेने के लिए हम स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। एक और कारण इस संघर्ष में हमने जो बलिदान और जीवन गंवाए हैं, उन्हें याद करना है।

इसके अलावा, हमने इसे यह याद दिलाने के लिए मनाया कि हम जिस स्वतंत्रता का आनंद लेते हैं, वह कठिन तरीके से अर्जित की जाती है। इसके अलावा उत्सव हमारे अंदर के देशभक्त को जगाता है। उत्सव के साथ-साथ युवा पीढ़ी उस समय के लोगों के संघर्षों से परिचित होती है।

स्वतंत्रता दिवस का महत्व (importance of independence day)

भारत की आजादी के बारे में हर भारतीय का अलग-अलग नजरिया है। कुछ के लिए, यह लंबे संघर्ष की याद दिलाता है जबकि युवाओं के लिए यह देश के गौरव और सम्मान का प्रतीक है। इन सबसे ऊपर हम देश भर में देशभक्ति की भावना देख सकते हैं।

भारतीय Independence day पूरे देश में राष्ट्रवाद और देशभक्ति की भावना के साथ मनाते हैं। इस दिन प्रत्येक नागरिक लोगों की विविधता और एकता में उत्सव की भावना और गर्व के साथ गूँजता है। यह न केवल स्वतंत्रता का उत्सव है बल्कि देश की विविधता में एकता का भी उत्सव है।

निष्कर्ष (Conclusion)

Independence day लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा करता है। यह लोगों को एकजुट करता है और उन्हें यह महसूस कराता है कि हम एक राष्ट्र हैं जहां कई अलग-अलग भाषाएं, धर्म और सांस्कृतिक मूल्य हैं।

अनेकता में एकता भारत का प्रमुख सारतत्व और शक्ति है। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का हिस्सा होने पर गर्व महसूस करते हैं, जहां सत्ता आम आदमी के हाथ में है।

यह भी पढ़ें – Independence day Speech in Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर लघु निबंध (Short Essay on Independence day in Hindi)

हमारी आजादी एक लंबे और कठिन संघर्ष के बाद आई है। इसे हासिल करने के लिए कई लोगों को बड़ी कुर्बानी देनी पड़ी। लाल किले की प्राचीर से हमारा राष्ट्रीय ध्वज पहली बार हमारे प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू। इस प्रथा का पालन आज तक किया जा रहा है।

यह दिवस पूरे देश में मनाया जाता है। सभी राज्यों की राजधानियों में, राज्यपाल या राज्य के मुख्यमंत्री झंडा फहराते हैं। लेकिन मुख्य समारोह दिल्ली के लाल किले में होता है, जहां देश के प्रधानमंत्री झंडा फहराते हैं।

लाल किले में समारोह को गार्ड ऑफ ऑनर द्वारा चिह्नित किया जाता है, जिसे 21 गोलियों की सलामी के साथ प्रधान मंत्री को प्रस्तुत किया जाता है। विभिन्न सैन्य बैंड राष्ट्रगान बजाते हैं और प्रधान मंत्री राष्ट्र को भाषण देते हैं।

यह एक राष्ट्रीय अवकाश है और सभी दुकानें, कार्यालय, स्कूल और कॉलेज बंद रहते हैं। यह दिन उन सभी महान देशभक्तों की याद दिलाता है जिन्होंने अपने जीवन का बलिदान दिया ताकि हम एक स्वतंत्र भूमि में रह सकें। इसलिए, हमें अपनी स्वतंत्रता बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए।

इस दिन कई स्कूलों में तिरंगा भी फहराया जाता है। कोई महत्वपूर्ण व्यक्ति, या स्कूल के प्रधानाचार्य, सभा को संबोधित करते हैं। शाम होते ही सभी बड़े सरकारी भवनों में रोशनी की जाती है।

यह भी पढ़ें –

FAQs on Independence day

स्वतंत्रता दिवस कितने वर्ष का होता है?

अगर हम 15 अगस्त, 1947 को आजादी का पहला दिन मानते हैं, तो हम आजादी के 75 साल मना रहे हैं।

भारत कितना पुराना है?

भारत दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक है। उपमहाद्वीप में खोजे गए होमिनोइड गतिविधि के निशान से, यह माना जाता है कि अब भारत के रूप में जाना जाने वाला क्षेत्र लगभग २५०,००० साल पहले बसा हुआ था।

सरल शब्दों में स्वतंत्रता दिवस क्या है?

स्वतंत्रता दिवस 1947 में ब्रिटिश शासन के अंत और एक स्वतंत्र और स्वतंत्र भारतीय राष्ट्र की स्थापना का प्रतीक है। यह उपमहाद्वीप के दो देशों, भारत और पाकिस्तान में विभाजन की वर्षगांठ का भी प्रतीक है, जो 14-15 अगस्त, 1947 की मध्यरात्रि को हुआ था।

Hii, Welcome to Odisha Shayari, I am Rajesh Pahan a Hindi Blogger From the Previous 3 years.

Leave a Comment